हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना: किसानों को डेयरी फार्मिंग बिजनेस के लिए सरकार देगी 24 लाख रुपए, जल्दी करें आवेदन

हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना (सब्सिडी, लाभ, लाभार्थी, आवेदन फॉर्म, रजिस्ट्रेशन, अप्लाई, पात्रता, सूची, स्टेटस, दस्तावेज, ऑनलाइन पोर्टल, आधारिक वेबसाइट, टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर, आखरी तारीख ) Himachal Pradesh Doodh Ganga Yojana (Benefits, beneficiaries, application form, registration, eligibility criteria, list, status, official website, portal, documents, helpline number, last date, how to apply, subsidy)

हिमाचल प्रदेश गवर्नमेंट द्वारा हिमाचल प्रदेश में दूध के प्रोडक्शन को बढ़ाने के लिए कल्याणकारी योजना चालू की गई है, जिसका नाम दूध गंगा योजना रखा गया है। योजना के अंतर्गत स्टेट गवर्नमेंट के द्वारा हिमाचल प्रदेश के किसानों को सब्सिडी का फायदा प्रदान किया जाएगा। यह सब्सिडी किसानों को अच्छी क्वालिटी की गाय और भैंस खरीदने के लिए प्राप्त होगी।

वैसे तो यह योजना काफी लंबे समय से हिमाचल प्रदेश राज्य में चल रही है और इसकी देखरेख नाबार्ड संस्था के पास है। अगर आप भी हिमाचल प्रदेश राज्य में रहते हैं और गाय अथवा भैंस पालते हैं, तो आपको इस योजना के बारे में अवश्य ही पता होना चाहिए। इस आर्टिकल में हम आपको “हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना क्या है” और हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना के बारे में पूरी जानकारी देंगे।Himachal Pradesh Doodh Ganga Yojana

हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना 2022 [Himachal Pradesh Doodh Ganga Yojana]

योजना का नाम:  

हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना

 

राज्य:  

हिमाचल प्रदेश

 

उद्देश्य:  

सब्सिडी पर लोन देना

 

लाभार्थी:  

हिमाचल प्रदेश के किसान और पशुपालक

 

 

आधिकारिक वेबसाइट:

 

hpagrisnet.gov.in/hpagris/AnimalHusbandry
हेल्पलाइन नंबर:  

1800 180 8006

 

 

इस योजना के अंतर्गत हिमाचल प्रदेश के किसानों को सब्सिडी दी जाएगी और सब्सिडी उन्हें सिर्फ गाय अथवा भैंस खरीदने के लिए प्राप्त होगी। हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना का सारा कार्यभार नाबार्ड संस्था देख रही है। योजना के अंतर्गत डेयरी फार्मिंग में लगे हुए सूक्ष्म उद्योगों को संगठित डेयरी बिज़नेस में बदला जाएगा।

इस योजना के द्वारा हिमाचल प्रदेश के ऐसे किसान भाई जो पशु पालन करना चाहते हैं वह सब्सिडी पर लोन हासिल कर सकेंगे। योजना के अंतर्गत गवर्नमेंट ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति तथा सामान्य समुदाय के लोगों को सब्सिडी की दर अलग-अलग ऑफर की है।

हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना का उद्देश्य

इस योजना के उद्देश्य में कई मुद्दों को शामिल किया गया है। जैसे कि योजना के अंतर्गत हिमाचल प्रदेश राज्य में दूध प्रोडक्शन के लिए लेटेस्ट टेक्नोलॉजी वाली डेयरी फॉर्म को तैयार किया जाएगा।

इसके अलावा अच्छी नस्ल के दुधारू जानवरों को तैयार करने के लिए और उनके संरक्षण के लिए बछड़ी पालन को भी प्रोत्साहन दिया जाएगा, साथ ही योजना के उद्देश्य में दूध प्रोडक्शन के परंपरागत तरीकों को उन्नत करके उसे व्यवसायिक स्तर पर लाना भी शामिल है। इसके अलावा योजना में स्वरोजगार देना भी शामिल है, साथ ही असंगठित डेयरी इलाके को मूलाधार सुविधा देना भी शामिल है।

हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना के लाभ/विशेषताएं

हर वर्ग को सब्सिडी:

अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोगों को इस योजना के अंतर्गत 33 परसेंट की सब्सिडी मिलेगी और सामान्य समुदाय के किसानों को योजना के अंतर्गत 25 परसेंट की सब्सिडी हासिल होगी।

केंद्र और राज्य सरकार देगी सहायता: केंद्र के द्वारा तो किसानों को सहायता मिलेगी। इसके अलावा राज्य गवर्नमेंट के द्वारा देसी गाय अथवा भैंस खरीदने पर किसानों को 20% की सब्सिडी दी जाएगी और अगर किसान भाई जर्सी गाय खरीदते हैं तो उन्हें 10% की सब्सिडी दी जाएगी।

लोन के अलगअलग प्रावधान

  • किसान अगर दो से लेकर के 10 दुधारू पशु खरीदता है तो उसे ₹500000 का लोन मिलेगा।5 से लेकर के 20 बछड़े खरीदने के लिए किसानों को ₹480000 का लोन मिलेगा। वर्मी कंपोस्ट के लिए 0.20 लाख रुपए का लोन मिलेगा।
  • दूध दोहने की मशीन के लिए 18.00 लाख का लोन मिलेगा। वहीं दूध के द्वारा देसी प्रोडक्ट बनाने वाली फैक्ट्री को 1200000 रुपए का लोन मिलेगा।
  • दूध प्रोडक्ट की ढुलाई और कोल्ड चैन सर्विस के लिए 24 लाख रुपए का लोन मिलेगा। दूध और दूध प्रोडक्ट के कोल्ड स्टोरेज के लिए ₹300000 का लोन मिलेगा।
  • मोबाइल इकाई के लिए 2.40 लाख, परमानेंट इकाई के लिए 1.80 लाख रुपए का लोन मिलेगा। दूध से बनी हुई चीजों को बेचने के लिए 0.56 लाख रुपए का लोन मिलेगा।

 50 प्रतिशत ऋण होगा ब्याज मुक्त:

स्वयं सहायता समूहो को योजना के अंतर्गत ₹300000 की लागत से 10 पशुओं की डेयरी फार्म के लिए लोन दिया जाएगा, जिसमें तकरीबन 50 परसेंट लोन ब्याज मुक्त होगा जिसका मतलब है कि सिर्फ ₹150000 पर ही ब्याज देना होगा।

हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना हेतु पात्रता [Eligibility]

  • इस योजना में सिर्फ हिमाचल प्रदेश के किसान भाई ही आवेदन कर सकेंगे।
  • गैर सरकारी संगठन, दूध संगठन, दूध सहकारी सभाएं और कंपनी भी योजना के लिए पात्र रहेंगी।

हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना हेतु दस्तावेज [Documents]

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • फोन नंबर
  • ईमेल आईडी
  • पासपोर्ट साइज की रंगीन फोटो

जमीन के कागजात (आवश्यकता पड़ने पर)

हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना में आवेदन की प्रक्रिया [Himachal Pradesh Doodh Ganga Yojana Registration]

1: हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना में आवेदन करने के लिए आपको नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करना है। यह लिंक आपको एक वेबसाइट पर ले कर के चला जाएगा।

विजिट वेबसाइट:http://hpagrisnet.gov.in/hpagris/AnimalHusbandry/Default.aspx?SiteID=3&PageID=1380

2: वेबसाइट पर पहुंचने के पश्चात आपको “सब्सिडी योजनाओं के लिए आवेदन करें” वाला एक ऑप्शन दिखाई देगा, आपको उसके ऊपर क्लिक कर देना है।

3: अब आपको अपनी स्क्रीन पर अलग-अलग योजनाओं के नाम दिखाई देंगे। उन में से आपको दूध गंगा योजना के नाम के नीचे जो क्लिक हियर टू अप्लाई लिखा हुआ है, उस पर क्लिक करना है।

4: अब आपकी स्क्रीन पर एक एप्लीकेशन फॉर्म ओपन हो करके आएगा, उसमें आपको निर्धारित जगह में मांगी गई सभी जानकारियों को भरना है।

5: सभी जानकारियों को भरने के पश्चात आपको अपलोड डॉक्यूमेंट वाले ऑप्शन पर क्लिक करके आवश्यक दस्तावेज को भी अपलोड कर देना है।

6: दस्तावेज अपलोड कर देने के पश्चात आपको सबमिट वाली बटन दबानी है।

इतनी प्रोसेस कंप्लीट करने के पश्चात हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना में आपका आवेदन संपूर्ण हो जाता है।

हिमाचल प्रदेश दूध गंगा योजना हेल्पलाइन नंबर [Himachal Pradesh Doodh Ganga Yojana Helpline Number]

इस आर्टिकल में हमने आपको हिमाचल प्रदेश राज्य में चल रही दूध गंगा योजना के बारे में सारी जानकारी देने का प्रयास किया परंतु अगर अभी भी आपको इस योजना के बारे में कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई है और आप योजना की जानकारी हासिल करना चाहते हैं, तो इसके लिए आप नीचे दिए हुए दूध गंगा योजना टोल फ्री नंबर पर संपर्क कर सकते हैं।

1800 180 8006

FAQ:

Q: दूध गंगा योजना कौन से राज्य में चल रही है?

ANS: हिमाचल प्रदेश

Q: दूध गंगा योजना किस लिए चालू की गई है?

ANS: सब्सिडी पर लोन देने के लिए

Q: दूध गंगा योजना के लाभार्थी कौन होंगे?

ANS: हरियाणा के पशुपालक और किसान भाई

Q: दूध गंगा योजना का हेल्पलाइन नंबर क्या है?

ANS: 1800 180 8006

Leave a Comment