[पंजीयन] बिहार मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना – डाउनलोड कोरोना सहायता एप्प

बिहार मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना (Bihar Mukhyamantri Vishesh Sahayata Yojana in hindi) (apply online / register at Corona Tatkal Sahayata App or disaster management dept. website to get Rs. 1,000)

कोरोना वायरस के चलते इस लॉक डाउन के कारण बहुत से प्रवासी लोग अन्य राज्यों में फस गए हैं। उनकी सहायता प्रत्येक राज्य सरकार और केंद्र सरकार द्वारा की जा रही है। ऐसे में बिहार की सरकार द्वारा भी एक अहम कदम उठाते हुए एक ऐसा वेब पोर्टल जारी किया है जिसके जरिए अन्य राज्य जैसे यूपी, एमपी, बिहार, दिल्ली आदि राज्यों में फंसे हुए कामगरों की सहायता की जा सकेगी। 6 अप्रैल साल 2020 को यह योजना बिहार राज्य सरकार द्वारा प्रवासी श्रमिकों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए लागू की गई। आइए इस योजना के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा करते हैं।

Corona-Tatkal-Sahayata-App-Download-bihar

इससे पूर्व बिहार सरकार aapda.bih.nic.in के माध्यम से अन्य राज्यों में फंसे प्रवासियों को इस योजना का लाभ प्राप्त करने और पंजीकरण प्राप्त करने के लिए आमंत्रित कर चुके हैं। अब तक सैकड़ों लोग इस वेब पोर्टल के जरिए इस योजना में अपना पंजीकरण भर चुके हैं। बिहार सरकार द्वारा मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना के लिए लगभग 10.35 करोड़ रुपए का प्रावधान कर चुकी है। इस योजना के तहत कम से कम एक लाख से अधिक प्रवासियों के बैंक खातों में 1000 रुपए प्रति व्यक्ति को सहायता के रूप में प्रदान किए जाएंगे।

इस ऑनलाइन वेबसाइट के माध्यम से काफी लोग तो पहले ही आवेदन भर चुके हैं जबकि अब भी आवेदन लगातार किया जा रहा है और वर्तमान समय में भी यह आवेदन जारी है।

बिहार मुख्यमंत्री विश्व सहायता योजना 2020 ऑनलाइन आवेदन

कोरोनावायरस की महामारी के मद्देनजर बिहार सरकार द्वारा अवधि मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना में ऑनलाइन फॉर्म लागू करके विभिन्न राज्यों में रह रहे प्रवासियों को आमंत्रित किया जा रहा है। पंजीकरण करने के लिए कोरोना तत्काल सहायता मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड करके बिहार के नागरिक एप्लीकेशन में दिया हुआ आवेदन फॉर्म भर सकते हैं और उसकी पूरी प्रक्रिया दिए गए लिंक के माध्यम से जांच भी सकते हैं।

बिहार मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना के लिए पात्रता और दस्तावेज:-

लॉक डाउन के इस समय के दौरान सरकार द्वारा लोगों को हिदायत दी गई कि वे जहां पर है वहीं पर रुक जाएं इधर उधर जाने की कोशिश ना करें ऐसे में आप कोरोना संक्रमित हो सकते हैं। इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए बहुत सारे बिहार के नागरिक जो अन्य राज्य में फस गए हैं उन्हें तत्काल सहायता ऐप के जरिए बिहार के मुख्यमंत्री उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान कर रहे हैं इस एप्लीकेशन के अंतर्गत पंजीकरण करने के लिए निम्नलिखित योग्यता होनी आवश्यक है।

  • जो व्यक्ति आवेदन भरना चाहता है वह मूलरूप से बिहार का निवासी होना चाहिए।
  • कोविड-19 के चलते जो लॉक डाउन लागू किया गया है उसके तहत वह अन्य राज्य में फंसा हुआ होना चाहिए।
  • बिहार में स्थित किसी बैंक की शाखा में उस व्यक्ति का अकाउंट होना चाहिए और उस खाते का बैंक अकाउंट नंबर उसके पास मौजूद होना चाहिए।

आवश्यक दस्तावेज

  • इस एप्लीकेशन के जरिए बिहार के निवासी को पंजीकरण कराने के लिए उसका आधार कार्ड उसके पास होना अति आवश्यक है।
  • जो आवेदक इस एप्लीकेशन के जरिए पंजीकरण करना चाहता है उसके नाम का बैंक खाता और बैंक खाते का नंबर उसके पास होना आवश्यक है।

सबसे महत्वपूर्ण ध्यान रखने वाली बाते..

  • जो आवेदक अपने मोबाइल में इस एप्लीकेशन को डाउनलोड करता है उसे अपनी फोटो खींच कर इस एप्लीकेशन में लगानी होगी। उस व्यक्ति के लिए यह अति आवश्यक है कि आधार कार्ड में मौजूद फोटो उसकी इस सेल्फी से मेल खाती होनी चाहिए ताकि वह इस एप्लीकेशन में अपना पंजीकरण सफलतापूर्वक कर सकें।
  • केवल आधार कार्ड नंबर ही एक ऐसा जरिया है जिसकी मदद से आप इस एप्लीकेशन में पंजीकरण कर सकते हैं।
  • एप्लीकेशन को डाउनलोड करने के बाद आपने उसमें अपना पंजीकृत मोबाइल नंबर भी डालना होता है और उस नंबर पर एप्लीकेशन द्वारा एक ओटीपी नंबर प्राप्त होता है।
  • ओटीपी नंबर को डाल कर ही आप एप्लीकेशन में अपना पंजीकरण संपूर्ण रूप से पूरा कर पाते हैं।
  • बिहार सरकार द्वारा इस एप्लीकेशन में ऐसा विकल्प रखा गया है कि आपका पंजीकरण होते ही आप को दी जाने वाली राशि डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से सीधे आपके अकाउंट में भेज दी जाती है।

बिहार सीएम विशेष सहायता योजना कार्यान्वयन और प्रगति

बिहार के सीएम नीतीश कुमार द्वारा यह योजना 3 अप्रैल 2020 को पटना के सीएम आवास पर कंप्यूटर द्वारा आरंभ की जा चुकी है। इस योजना के द्वारा बहुत तेजी से काम किया जा रहा है ताकि प्रवासी श्रमिकों को वित्तीय सहायता प्रदान करके उनकी परेशानियों का हल निकाला जा सके। इस एप्लीकेशन के 3 दिनों के अंदर ही लगभग 3.10 प्रवासी मजदूर ऑनलाइन आवेदन करके ₹1000 की राशि प्राप्त कर चुके थे। इसके बावजूद भी लगातार प्रवासी मजदूर ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया से इस वेबसाइट के जरिए जुड़ते जा रहे हैं।

बिहार से निकले प्रवासी मजदूरों की अधिकतम संख्या दिल्ली राज्य में 55,264 है हरियाणा में 41,050 महाराष्ट्र में 30,576 और गुजरात में 25,638 यह उन लोगों का आंकड़ा है जो अब तक इस एप्लीकेशन के जरिए आवेदन भर के सहायता प्राप्त कर चुके हैं। इन सबके अतिरिक्त लक्ष्यद्वीप केंद्र शासित प्रदेश से 8 आवेदन इस एप्लीकेशन को प्राप्त हुए हैं।

यह सभी लाभार्थी बिहार  के निम्न जिलों के रहने वाले हैं:- 1.03 लाख श्रमिक में से अधिकतम 7281 सारण जिले से हैं 6821 मुजफ्फरपुर 6792 मधुबनी और सबसे न्यूनतम 469 लाभार्थी अरवल जिले के हैं। इन सभी में से अधिकतम 1,03,579 लोग सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली इस योजना का लाभ उठा चुके हैं। सरल शब्दों में कहें तो सरकार द्वारा 6 अप्रैल तक इस योजना के तहत 10,35,79000 रुपये मजदूरों के खातों में ट्रांसफर कर दिए गए हैं।

बिहार सरकार की इस योजना के तहत देश के विभिन्न राज्यों में मौजूद बहुत सारे प्रवासी श्रमिकों तक इस योजना का लाभ पहुंचाया जा चुका है और बाकी मजदूरों तक पहुंचने का प्रयास निरंतर रूप से किया जा रहा है। यदि आप के संपर्क में कोई ऐसा प्रवासी मजदूर हो तो तुरंत उसे इस योजना से अवगत अवश्य कराएं ताकि वह इस योजना का लाभ उठाकर अपने मुश्किल दिनों को थोड़ा सुगम बना सके।

Other links –

Leave a Comment