भारत गौरव योजना: देश की पहली प्राइवेट ट्रेन शुरू, मिलेगा हर महीने घूमने का मोका

भारत गौरव योजना 2022 ( लाभ, सूची, स्टेटस, दस्तावेज, ऑनलाइन पोर्टल, आधारिक वेबसाइट, लाभार्थी, आवेदन फॉर्म, रजिस्ट्रेशन, अप्लाई, पात्रता, टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर) Bharat Gaurav Yojana 2022 ( official website, portal, documents, registration, eligibility criteria, list, status, Benefits, beneficiaries, helpline number, last date, how to apply, application form, private train )

भारत गौरव योजना भारतीय सरकार द्वारा पर्यटन और रेलवे के विकास के लिए लाई गई एक महत्वपूर्ण योजना है। पिछले वर्ष नवंबर में भारतीय रेलवे ने एक सौ अस्सी भारत गौरव ट्रेनों को शुरू करने का फैसला लिया था। ध्यान देने वाली बात ये है कि भारत गौरव योजना के तहत आने वाली ट्रेनों में तीन हजार से अधिक कोचेज होने की घोषणा की गई थी।भारत गौरव योजना के अंतर्गत आनेवाली ट्रेनों की विशेष बात ये भी है कि सरकार द्वारा निर्धारित कुछ शर्तो को मानने के बाद निजी कंपनियां या टूर ऑपरेटर्स भी रेलगाड़ियों को लीज पर ले सकते हैं। लीज पर ले कर व्यक्ति या ऑपरेटर्स अपनी इच्छानुसार विज्ञापन भी लगा सकते हैं। दोस्तों, भारत गौरव योजना का एक ध्येय भारतीय संस्कृति की ओर पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करना है।तो आइए, इस आर्टिकल के माध्यम से भारत गौरव योजना को विस्तार में समझते हैं।Bharat Gaurav Yojana

भारत गौरव योजना [Bharat Gaurav Scheme 2022]

योजना का नाम भारत गौरव योजना
किसने की भारतीय रेलवे (भारत सरकार)
साल 2022
उद्देश्य भारतीय संस्कृति की ओर पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करना
टोल फ्री अभी उपलब्ध नही

 

क्या है भारत गौरव योजना

भारत सरकार ने भारतीय रेलवे से जुड़ी एक नई पहल की है। इसके अंतर्गत कोई निजी ऑपरेटर सरकार द्वारा दी गई शर्तो का पालन करने के बाद ट्रेन को लीज पर ले सकता है। इसके बाद वो निजी ऑपरेटर ट्रेन के किराए, विज्ञापन, रास्ते आदि से जुड़े फैसले भी ले सकता है। इसके अलावा राज्य की सरकारें भी इस योजना के लिए आवेदन दे सकती हैं। 

खास बात ये है कि इस योजना में “थीम बेस्ड पर्यटन” को आगे बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा। उदाहरस्वरूप, रामायण रेलगाड़ी श्री राम से जुड़े विभिन्न स्थानों की यात्रा करवाएगी और इच्छुक पर्यटक एक ही यात्रा में श्री राम से जुड़े स्थानों को देख पाएंगे। गौर करने वाली बात ये है कि इस योजना के अंतर्गत प्राइवेट ऑपरेटर और सरकार दोनो का लाभ होगा। हाल ही में पहली प्राइवेट ट्रेन कोयंबतूर से शुरू हुई है।

भारत गौरव योजना से जुड़े लाभ एवं विशेषताएं

  • इस योजना के तहत प्राइवेट टूर ऑपरेटर्स को ट्रेन यात्रा का किराया निर्धारित करने का मौका मिलेगा।
  • प्राइवेट टूर ऑपरेटर्स ट्रेंस से जुड़े रुट्स और विज्ञापन भी चुन पाएंगे।
  • इस योजना के अंतर्गत रेल गाड़ी को राज्य सरकारें,ट्रस्ट्स, सोसायटीज आदि भी लीज पर ले सकते हैं।
  • इस योजना में प्राइवेट ऑपरेटर बनने के लिए इच्छुक लोगों को एक लाख रुपए की वन टाइम रजिस्ट्रेशन फीस देनी होगी। 
  • आवेदनकर्ता को एक करोड़ रुपए की सुरक्षा निधि भी देनी होगी।
  • भारत गौरव योजना थीम बेस्ड टूरिज्म को आगे बढ़ाने में कारगर सिद्ध होगी।
  • रखरखाव, यात्रियों की सुविधा, ट्रेन का ईंधन आदि की जिम्मेदारी प्राइवेट ऑपरेटर की होगी।
  • ट्रेन पर सेफ्टी फीचर्स और आपातकाल में डॉक्टर की सुविधा भी मिलेगी।

भारत गौरव योजना के लिए पात्रता [Eligibility]

भारत गौरव योजना का लाभ लेने का पात्र हर भारतीय है। इस योजना के अंतर्गत ट्रेन को प्राइवेट ऑपरेटर के अलावा राज्य सरकारें,ट्रस्ट्स इत्यादि भी लीज पर ले सकते हैं।

भारत गौरव योजना के लिए दस्तावेज [Documents]

भारत सरकार ने भारत गौरव योजना के आवेदन से जुड़े दस्तावेज का कोई विशेष ज़िक्र नहीं किया है। भारतीय रेलवे की ऑफिशियल वेबसाइट पर समय समय पर इससे जुड़े अपडेट्स आते रहते हैं।

भारत गौरव योजना के लिए आवेदन [Bharat Gaurav Scheme Registration]

भारत गौरव योजना से जुड़े आवेदन को भारतीय रेलवे की वेबसाइट पर देखा जा सकता है। आवेदक को इसके अलावा एक लाख रुपए की रजिस्ट्रेशन फीस देनी होगी। साथ ही एक करोड़ रुपए की सुरक्षा निधि भी जमा करनी होगी। लीज की व्यवस्था दो से दस साल तक के लिए होगी।

भारत गौरव योजना के लिए टोल फ्री नंबर [Bharat Gaurav Scheme Helpline Number]

अभी सरकार ने भारत गौरव योजना से जुड़ा कोई विशेष टोल फ्री नंबर नहीं दिया है। अपडेट्स और जानकारियों के लिए भारतीय रेल की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाया जा सकता है।

FAQs

Q-भारत गौरव योजना किसने शुरू की?

ANS- भारत सरकार

Q- भारत गौरव योजना की घोषणा कब हुई?

ANS- नवम्बर, 2021

Q- भारत गौरव योजना के लिए टोल फ्री नंबर क्या है?

ANS- अभी उपलब्ध नही

Q- भारत गौरव योजना के लिए प्राइवेट ऑपरेटर कौन बन सकता है?

ANS- व्यक्ति, राज्य सरकारें, ट्रस्ट्स आदि।

 

Leave a Comment